Questions & Answers - September 28, 2017

Anupam: गुरुजी सादर प्रणाम।गुरुजी आपसे जाना कि श्राद्ध वेद विरुद्ध है व पितृ पूजा का अर्थ जीवित माता पिता व देव पूजा का अर्थ वेदज्ञ आचार्य की सेवा है।आर्य समाज वेद ज्ञान को मानता है।मुझे आर्य समाज की ओर से एक निमंत्रण मिला कि पितृपक्ष के अवसर पर यजुर्वेद का अनुष्ठान व भगवत कथा(वेदकथा)मे शामिल हो अपने पूर्वजों को श्रद्धांजलि दे।पर गुरुजी श्रद्धांजलि तो उसी तारीख मे हवन कर के दी जाती है जिसमे व्यक्ति का स्वर्गवास हुआ हो फिर पितृ पक्ष विशेष मे ही इस प्रकार का निमंत्रण क्यों।
Swami Ramswarup: Blessings beti. Yeh to wahaan jaakar hee sub kuch pataa chalega. Han! Yeh avashya hai ki Yajyen kabhi bhi kiya ja sakta hai aur kabhi bhi shraddhanjali dee jaa saktee hai.

Anonymous: Swami jee pranam. charan sparsh. Swami jee manyu ka arth kya hai? Aur manyu aur krodh mein kya farak hai?
Swami Ramswarup: My blessings to you. Manyu Sanskrit ka shabda hai. Krodh hindi ka hai. Arth donon ka ek hee hai. Jaise English mein krodh ko anger bolte hai aur hindi mein krodh ko krodh bolte hain.