Questions & Answers - October 12, 2018

Anupam: गुरुजी सादर प्रणाम।गुरुजी मन में एक प्रश्न अक्सर उठता है।ईश्वर प्रकृति व जीवात्मा तीनों स्वयंभू है।ईश्वर प्रक्रति की सहायता से सृष्टि का निर्माण करता है व जीवात्माओं को शरीर प्रदान करता है।प्रलय में जीवात्मा प्रक्रति शांत होते है व एक मात्र ईश्वर,चेतन होता है।गुरुजी ईश्वर सर्वशक्तिमान है।जब भौतिक संसार में भी कोई कार्य किया जाता है तो कोई तो व्यवस्थापक होता है व वह व्यस्थापक कहाँ से आया तो उसका भी स्रोत होता है कि माता पिता से वह जनमा माता पिता अपने माता पिता से व ये सब प्रारंभ में ईश्वर से।इसी प्रकार ये जो स्वम्भू है ये ऐसे होंगे यह व्यवस्था बनाने वाला भी कोई होता है क्या जिसे इनसे ऊपर माना जाए। गुरुजी ऐसे ही मन में ये प्रश्न भी आता है कि कृष्णमहाराज अपने पिछले जन्मों को जानते थे।उनमें ईश्वर प्रकट था वेदज्ञाता थे।और जैसा आप बताते है कि समाधिस्त होना या ईश्वर अनुभूति हो पाना भी कई जन्मों के पुण्यों का फल होता है।तो ऐसे भगवान के जैसा आपने महाभारत का प्रसंग सुनाने में बताया कि उनके बेटों को को राज सभा में उनके सामने मार दिया गया था तो ऐसे व्यक्ति को ऐसी असहनीय पीड़ा क्यों झेलनी पढ़ी होगी।
Swami Ramswarup: Ashirwaad beti. Vyavastha ko kahin na kahin to viraam lena hee padta hai. Jaise ped ke patte, tehniya, tana phir jad se aage to kuch nahi. Yadi vyavastha viraam na le to phir to yeh vyavastha ka silsila kabhi smapt hoga hee nahi. Vyavastha ke prati sochte-2 buddhi mein shanti ke sthaan par ashanti utpann ho jayegi. Jaise yadi hum yeh kahengey ki Ishwar ko kisi ne banaya to Ishwar ko jisne banaya, usey bhi kisi ne banaya, to phir yeh silsila khatam nahi hone wala isliye srishti rachna, Ishwar satta, Traitwaad ityadi jaisa ki Ishwar ne vedon mein samjhaya , usey hee hamaare Rishi-Muniyon aur Sri Ram-Krishna aadi ne samajh kar Ishwar ko prapt kiya. Punnah vedon mein yahi to kaha hai- Neti-Neti-Neti arthart jitna vedon ka gyan hai weh abhi samapt nahi hua. Bhaav yeh hai ki Yogi jan vishwa mein sarvshresth pramaanik vibhuti hain kyunki Traitwaad ya koi bhi tatva ho, weh usey Samadhi mein apne andar anubhav karte hain. Atah! Yogiyon dwara anubhav kiya hua gyan hee satya gyan hai. Sahitaon dwara padaa gyan itna satya nahi hai. Ishwar to beti unke andar, dwapur se prakat hua tub unhonein apne pichchley janmon se dwapur mein jaana, jub Vasudevji ke yahaan janam liya, Is se pehel weh kuchh nahi jaante the, anubhaav to kewal Samadhi mein hee hota hai aur Samadhi Ishwar aur guru kee kripa se vairagyvaan ko hee prapt hotee hai. Yeh gyan to maine kai baar samjhaaya hai ki Poorna yogi ka bhi, jub tak weh jeevit hai, bachey-khuchey karmon ka phal bhogna hee padta hai. Sri Ram ne bhi junglon mein Sita ke viyog mein aur bhi kai prakar ka kashta bhoga hee tha kyunki jubki weh bhi poorna Brahma ko prapt the.

आर्य विनोद: पूज्य गुरुदेव, चरण वंदन, जैसा की आपके प्रवचन मे यह सुना की देश के प्रत्येक विद्यालय मे , कॉलेज मे यदि रोज़ 10- 15 मिनट ही वेद की शिक्षा बच्चो की दी जाये तो बहुत कल्याण होगा ,. . . गुरुजी , मैं भी एक अध्यापक हूँ ,क्या मैं भी विद्यालय मे रोजाना हवन - अग्निहोत्र शुरू कर सकता हूँ , कृपया मुझे मार्गदर्शन प्रदान करे , मैं इसकी शुरुआत कहा से करू , ईश्वर कृपा और आपके आशीर्वाद से मैं इतना सक्षम हूँ की हवन का जो भी छोटा - मोटा मासिक खर्च होगा वह मैं वहन कर सकता हूँ , बस मेरे हृदय मैं यही भावना है की मेरे विद्यालय की कन्यायें वेद विद्या से , ईश्वर से जुड़ जाये, धन्यवाद l
Swami Ramswarup: Ashirwad. Aap school mein principal kee ijjazat se haven-agnihotra kar sakte hain. Yadi principal aagya na de tub koi comments nahi karne chahiye.