Questions & Answers - October 06, 2017

Anupma: गुरुजी सादर प्रणाम।गुरुजी आपसे ज्ञात हुआ कि हवन से वातावरण की शुद्धता के साथ असंख्य जीवात्माओं को भी लाभ होता है।गुरुजी ये लाभ मुक्त जीवात्माओं को होता है या शरीर छोड़ चुकी सभी जीवात्माओं को।गुरुजी मन मे प्रश्न आ रहा है कि जब बिना शरीर के आत्मा कोई भोग नही भोग सकती तो हवन आदि का लाभ कैसे ले सकती है।गुरुजी जो किसी के मरने के उपरांत यज्ञ के लिए कहा जाता है तो वह जीवात्मा उस हवन से कैसे लाभान्वित होती होगी।
Swami Ramswarup: Blessings beti. Havan athwa yajyen se nikle som (dhuein) se sabhi jeevaatmayon ko laabh hota hai. Mukta jeevatmayon kee swabhavik indriyaan hotee hai jinse weh laabh lete hain. Shesh jeevatmayein shareer dhaari hotee hain aur shareer dhaari jeevatmayein antariksh mein rehtee hain. Ved mantron ka prabhaav pratyek jeevatma par padta hai, yeh alaukik laabh hai aur isey laukik indriyon aadi kee avashyakta nahi hai.

Shivam: प्रणाम गुरुवर। मैं यह जानना चाहता हूँ कि संध्यावंदन के समय स्नान का वह कौन सा मन्त्र है जिसमें यह वाक्य आता है, "जल हमें ऊर्जा दें" ? इसका क्या रहस्य है ?क्या बारम्बार स्नान करने से ऊर्जा बढ़ती है?
Swami Ramswarup: My blessings to you, beta. Sandhya vanadan mein sampooran shareer par jal chchidka jaata hai, yeh keh kar- ‘Om Arishtaani mein angaani tanustanva me sah santu’. Sandhya mantron mein sanaan karne ka koi anya mantra nahi padaa jaata.