Questions & Answers - August 20, 2017

Anupam: गुरूजी प्रणाम।गुरुजी क्या माता सीता धरती मे समा गई थी और इस प्रकार उन्होंने ये लोक छोड़ा था।क्या जनक को हल चलाते समय एक मटके के अंदर से सीता जी मिली थी,सीताजी ने जनक के यहां जन्म नही लिया था।जब लव कुश राजमहल में ही पैदा हुए व पले तो उन्होंने अश्वमेध यज्ञ के समय राजा राम द्वारा छोड़ा घोड़ा वन मे कैसे पकड़ा।क्या रामचंद्र की एक बहन भी थी।गुरुजी कृपया मार्गदर्शन करें।
Swami Ramswarup: Blessings beti. Sita Mata ke vishaye mein jo dono baatein aapne poochchee hain weh unnatural aur jhoot hain. Beta aap hee batao jub luv, kush Rajmahal mein paida hue to unhonein Ashwamedh nahin, Rajsuya yajyen ka ghoda kaise pakda? In do mein se ek baat satya hai, weh aap swayum nishchit karein. Donon baatein to sach ho nahin saktee. Beta, aapne Valmiki Ramayan sunee jismein Shringi Rishi ne Yajyen karke Raja Dashrath ko chaar putra hone ka ashirwad diya tha, behen ka nahin.

Anupam: गुरुजी प्रणाम।गुरुजी कुरान कितने वर्ष पहले लिखी गई थी।मुस्लिम्स मे ईद मनाने के पीछे क्या घटना है।गुरुजी क्या कुरान मे निराकार ईश्वर को मस्जिद मे जाकर पूजने के लिए कहा है व बाइबिल में चर्च मे जाकर पूजने के लिये।
Swami Ramswarup: Blessings, beti. Qurann sharief lagbhag 1,500 varsh pehle likhee thee. Han! Masjid aur Kaba, dono mein nirakaar Khuda ko poojne ka updesh hai.

Anupam: गुरुजी प्रणाम।गुरुजी 2 दिन से ऑफ एयर आने के कारण आपके प्रवचन शो रील के द्वारा बाद में सुन पाती हूँ।गुरुजी एक प्रश्न है।आप बताते है कि वेदों में जो ईश्वरीय नियम है उसके अनुरूप ईश्वर की उपासना करनी चाहिए तो गुरुजी वेदों में शिव गणेश हरि जगदीश आदि भगवान के ही अनेक नाम है तो यदि कोई हरिओम या ॐ नमः शिवाय कहकर जाप करता हो तो यह ईश्वरीय नियम के विरुद्ध कैसे है।अब बेशक कोई मूर्ति के आगे बैठता हो पर नाम तो उसी परमेश्वर का ले रहा है न।गुरुजी आपसे प्राप्त ज्ञान की चर्चा मैं ओर लोगो के साथ भी करती हूँ।उन लोगो ने मुझसे जब यह कहा तो मुझे भी इसमें कुछ गलत नही लगा।गुरुजी मार्गदर्शन करें।गुरुजी आपने सभी पुराणों का अध्ययन किया है ।विभिन्न राज्यो में अक्सर लोग जो विभिन्न पुराणों के वाचक है उनके करोड़ो की संख्या में शिष्य है।में जब उन लोगो का प्रोफाइल पढ़ती हूँ तो उसमें वे बताते है कि उनके दादाजी पाठ करते थे इसलिए उन्हें भी इस ओर रुझान हुआ।लोगो की प्रगाढ़ आस्था है उन पर।टीवी पर आने वाले अधिकांश धार्मिक कार्यक्रमो में ये कहा जाता है कि वेदों व पुराणों में ऐसा कहा है वे वेद और पुराणों में अंतर ही स्पष्ट नही करते।गुरुजी आप सत्य ज्ञान की इस्थापन का कार्य कर रहे है।आप जैसे लोगो को विश्व पटल पर चमकना चाहिये पर हो उल्टा रहा है तो ईश्वर सत्य का साथ देने वाले लोगो का सहायक क्यो नही हो रहा?
Swami Ramswarup: Blessings beti. Ishwar ek hai, uske kewal vedon mein kahe hue naam anek hain. Shiv ka arth hai kalyaankari. Vedon mein Ganpati ko hee ganesh kehte hain jiska arth hai Gannana yogaya pramukhon mein sabse pramukh. Atah yahan ganpati athwa ganesh ka arth Parmeshwar hai.

Vastutaha vedon mein Hari Ishwar ka prachlit naam nahin hai. Hari ka arth indriyan bhi hai, ghoda (horse) bhi hai aur vishaye-vikaar haran karne wala Parmeshwar bhi hai. Isliye kis mantra mein kahaan kya arth lagaana hai, yeh vichaar karna hota hai. Jagdeesh ka arth hai jagat kee rachna karne wala Parmeshwar. Bhaav hai ki jub tak koi ved vidya nahin jaanta to in shabdon ke theek-2 arth bhi nahin jaan sakta aur in shabdon ka arth kewal ek nirakaar, srishti rachiyata Parmeshwar mein bhi nahin lagaa sakta. Beta jo galat hai, woh galat hee hota hai aur apramaanik hota hai. Maan lo aap jamuna nadi ke kinaare baithkar Jamuna nadi ka darshan karke aur mann hee mann ganga-ganga bolein to jamuna mein ganga ke gunn nahin aayenge. Bhavna kee bhakti nahin hotee but Shraddha kee bhakti hotee hai. Aur Shraddha ka arth hai Shrat+dha iti Shraddha aur shrat ka arth hai satya aur satya usko bolte hain jiska gunn, karma, swabhaav kabhi nahin badalta.

Murti ke aagey baithkar murti nirakaar nahin ho saktee aur nirakaar ka dhyan dharkar nirakaar murti nahin ban sakta. Ishwar to hamesha satya waadiyon ke saath hee rehta hai. Asatyawadiyon ka saath nahin deta. Yeh vedic niyam hai ki Ishwar dushton ka sanghar karta hai aur sajjanon kee raksha karta hai.