Questions & Answers - August 18, 2017

Anonymous: Swami jee pranam ? swami jee aapko pata hai desh mein kya chal raha hai? har jagah corruption . har jagah beimani aaj kal food air sab mein pollution hai log bhuke mar rahe hain? kai log ishwar ke pooja nahi karte ? ek dusre ka saman nahi karte . ye sab dekhe mujhe bura lagta hai? main aapse puchta hun ishwar kahan hai ? ishwar ke hote samaj mein nure log kaise hain jawab dijiye
Swami Ramswarup: My blessings to you, Ishwar ne yeh srishti banayee hai aur ved mantra ka gyan dekar vedanusaar Jeevan bitaane kee agya dee hai. Jub manushya ved vidya nahin apnaata tub sansaar mein dukh, rog, samasyain, apmaan, alp mrityu aadi anek museebaton ka pahad toot padta hai.

Anupam: गुरुजी प्रणाम।गुरुजी महाभारत के संदर्भ मे कुछ प्रश्नो के माध्यम से आपसे ज्ञान प्राप्त हुआ।अभी तक जो सत्य मान रही थी पता चला गलत था।धन्यबाद।गुरुजी फिर अर्जुन ने भीष्म को शरशैया पर क्यो लिटा दिया था।कृष्ण को रणछोर कहते है क्या वाकई वो युद्धभूमि से भाग गए थे।आपकी पुस्तक पढ़ कर ज्ञात हुआ कि द्रोपदी का विवाह युधिष्टर से ही हुआ था तो वह पांच पतियों की पत्नी के रूप में क्यो प्रसिद्ध हुई टीवी में दिखाए नाटकों में तो अलग अलग पति से प्राप्त उनकी संतानो के नामों का भी उल्लेख दिखा देते है।गुरुजी किसी ज्ञानी गुरु के बिना तो आज सत्य जानना ही संभव प्रतीत नही होता।अधिकांश गुरु तो मनुष्य लिखित किताबो का ही उपदेश करते है।अच्छे गुरु मिल जाये ये मेरी हार्दिक इक्छा थी व आपके मिलने से वो इक्छा पूर्ण हुई है।बस जल्द ही आपसे दीक्षा ले पाउ व आपकी शिष्याया बन पाउ।गुरुजी क्या कृष्णजी की बहुत सारी रानियां थी।क्या उनके देवकी पुत्र होने व यशोदा द्वारा पाले जाने का उल्लेख सही है।क्या उनके जेल मे पैदा होने व वासुदेव द्वारा आंधी तूफान मे उन्हें नंद घर पहुंचाने की कथा सत्य है।गुरुजी व्यास मुनि द्वारा लिखित ओरिजनल महाभारत पढ़नी हो तो कहां से खरीदे व किस लेखक की व्याख्या वाली।गुरुजी जब महाभारत मे कृष्ण की बाललीलाओं का वर्णन नही है तो पुराणों में इस वर्णन का क्या आधार होगा क्या केवल मानव मस्तिष्क की कल्पना।
Swami Ramswarup: Blessings beti. Yeh varnnan bahut lamba hai aur Bhagwad Geeta mein isse aap vistaar se padeinge tab jaldee samajh mein aayega. Yahaan bus itna samajho ki Sri Krishna Maharaj ne unhein jad-chetan ka gyan diya tha. Hey! Arjun, Bheeshma Pitamah ka shareer jad hai, yeh ek na ek din nasht ho jayega. Is sharer ke andar Chetan jeevatma hai, weh ajar-amar, avinashi hai, wahee tera dada hai. Isliye shareer ko teer mar kar nasht kar de. Han! Ek baar jub uspar Shatru kee sena ne akramann kiya tha tub weh ran chchod kar bhag gaye the. Beta yadi koi usey jhoota prasiddh kar raha hai ki woh paanch patiyon kee ek patni thee to usmein koi kya kar sakta hai. Aaj to jo marzi jhoot bolo. Aaj bhi jo marzi jhoota insaan jhoot bole to usey bhi kai sach maan lete hain. Kewal sach ko jaananey wala hee usey jhoot manta hai.

Krishnaji kee kewal ek hee patni thee- Rukmanni. Radha unkee maami thee. Han! Yeh baat satya hai ki Sri Krishna Maharaj ka janam jail mein hua tha aadi.

You may read Mahabharat Granth commented by Paramhans Swami Jagdishwranandji Saraswati which is published by M/S Govindram Hasanand, arya sahitya bhavan, Nai sarak, Delhi. The website of M/S Vijay Kumar Hassanand is – www.vedicbooks.com.

Mahabharat Maharishi Vyas rachit granth hai aur purann manushya krit granth hai.

Anupam: गुरुजी प्रणाम।गुरुजी आपसे प्राप्त हुए ज्ञान के बाद मुझे इस विषय मे कोई भ्रांति नही हैकि ईश्वर निराकार है व वैदिक उपासना ही सत्य है पर गुरुजी बहुत लंबे समय से चली आ रही कुछ बाते उत्तर पाना चाहती है और जिज्ञासा वश आपको प्रश्न भेज देती हूं।गुरुजी ये तथ्य सब जगह कहा जाता है कि शिवजी पर जल चढ़ाने से वे प्रस्सन होते है वे भोलेनाथ है सबकी बहुत जल्दी सुनते है।आजकल के बढ़े बढ़े विद्वान उन्हें बढ़ी श्रद्धा से पूजते देखे जाते है।मेरा भी अभी तक यही क्रम रहा।तो क्या इसे मात्र अज्ञानता कहा जाए या मेरे एक टीवी चैनल पर सुना कि भगवान कानाम शिव है वे प्रकाश स्वरूप है इसलिए लोगो ने उन्हें ज्योतिलिंग के रूप में पूजना शुरू किया व बाद में शिवलिंग केरूप पूजे जाने लगे।क्या यह बात अर्थपूर्ण है।
Swami Ramswarup: Blessings beti. Beti ek to yeh satya jaano, maine pehle bhi tumhein bataaya hai ki vidwan athwa badey-2 vidwan kewal unhein kehte hain jo ved jaante hain. Isliye ved ke gyata vidwan jaante hain ki shivling Ishwar kee Pooja nahin hai, isliye woh Ishwar kee Pooja nahin karte etc. Jad Ishwar kee rachna hai, yadi hum Shivji ko Ishwar mane to jal Ishwar kee rachna hai, to Ishwar kee rachna Ishwar par kaise chchadayee ja saktee hai. Ishwar to paalan karne wala, hamein sab kuchh dene wala hai, woh hamse kuchh nahin leta.