Questions & Answers - August 16, 2017

Anupam: गुरुजी सादर प्रणाम।गुरुजी श्रावण मास शुरू है।क्या इस मास को वेदो में कुछ विशेष महत्व है।गुरुजी सावन के चारो सोमवारों को विशेष महत्व देने का क्या प्रयोजन है।गुरुजी मन को परेशान होने से रोकने के लिए या चित्तवृत्तियों को रोकने के लिए क्या लंबे समय तक ध्यान मे बैठना चाहिए।गुरुजी मन को पहले की अपेक्षा तो काफी संयत कर पाती हूँ पर अभी भी स्थिति विशेष मैं बैचेन हो जाती हूँ।मार्गदर्शन करें।
Swami Ramswarup: Blessings beti. Vishesh mahatva yahi hai ki kisi bhi ritu mein Ishwar kee vedic Pooja na chhodee jaye. Is ritu mein swadhyay adhik karna chahiye. Vedon mein aisa nahi hai. Chittta vrittiyon ko rokne ke liye Ashtang Yog sadhna aur vedadhyayan avashyak hai. Aap nitya hawan aur vedic literature ka swadhyay karte rahein beti. Jo maine Bhagwad Geeta par vyakhya likhee hai uske ek-ek shabda ko rat lo.

Anupam: गुरुजी सादर प्रणाम।गुरुजी महाभारत में प्रसंग आता है कि सत्यवती ने अपनी पुत्रवधु के संतान हो इस हेतु व्यासमुनि को बुलाया था जैसा पढ़ने में आता है वे उनके देखने मात्र से गर्भवती हो गई।गुरुजी व्यासमुनि जी के पास क्या कुछ विशेष शक्तियां थी।इसी प्रकार कुंती को सूर्य भगवान से कर्ण व बाकी पुत्र भी इसी तरह मात्र मांगने से कैसे हो गए।आप तो कहते है सूर्य जड़ है।कृपया मार्गदर्शन करें।अभी तक इनसभी कहानियों पर विश्वास करती आई थी पर आपसे ज्ञान पा कर मन तर्क करता है।इसी प्रकार भीष्म के लिए कहा जाता है कि उन्होंने पिछले जन्म मैं साँप को कटीले झाड़ियों मैं फैका था इसलिए अर्जुन ने उन्हें वानो की शैया पर लिटा दिया था।क्या महाभारत मैं ऐसा जिक्र है।गुरुजी क्या जब शरीर मरने के बाद आत्मा सुषुप्त अवस्था मे होती है तो क्या फिर से शरीर धारण करने पर उसके साथ पुरानी यादे शेष रह जाती है तभी तो कुछ लोग जैसा अखबारों मैं आता है जन्म लेने के बाद थोड़े बड़े होने पर पहले के जन्म का स्थान बताने लगते है।कृपया मार्गदर्शन करें।
Swami Ramswarup: Blessings beti. Beti yeh sab jhoothi baatein hain, dekhne matr se koi bhi garbhawati nahi hotee. Aisee unnatural baton par dhyan na dein. Isee tarah Kunti ki katha bhi aapne kahin jhoothee padhi hai yeh donon kathayain Mahabharat mein nahi hain. Mahabharat mein to natural process se Satyawati kee bahuon ko aur Kunti ko putra prapt hue the. Isey niyog kehte hain. Lekin main aaj hamesha is niyog ka khandan karta hoon. Kyunki us samay brahmachray aur indriyan sanyam ka vedic kaal tha. Ab nahi hai. Ab isey Vishay viakar kehte hain jo ki paap hai. Maine pehle bhi samjhaya hai ki jis surya see Kunti ko putra hua weh surya dev ek vedon ka gyata, vidwaan Rishi tha. Aakash mein chamakane wala surya nahi tha.

Bheeshma ki katha jo apne padhi wo bhi jhoothi hai. Itni divya drishti wale yogi desh mein nahi hain jo kisi ke pichhle janam ka itihaas bata sakein aur agar hain to wo kisi ka past batate nahi hain. Isliye bhrantiyon mein mat pado.Mahabharat ke kewal dus hazaar shloka sachche hain jo authentic hain baaki sab jhoot hai. Naya shareer dharan karne par purane karma yaad nahi aate. Jo akhbaar aadi mein baatein likhee aati hain wo bhi kuchh din ke baad sab bhool jate hain isliye weh sach nahi hai.

Anupam: गुरुजी प्रणाम।जैसा आपसे ज्ञात हुआ कि जिंदा आचार्य ही गुरु होता है ।तो क्या किसी सद्गुरु(जो वेद ज्ञाता, विद्वान,सरल,आपको ज्ञान देने वाला हो)का ध्यान, पूजा,स्मरण उसकी मृत्यु उपरांत नही किया जाना चाहिए जबकि उसने सशरीर होते आपके जीवन को प्रकाशित किया हो।आप अपने गुरु को किस रूप मे पूजते है।और यदि ऐसा करना उचित है तो जो लोग वेदज्ञानी राम कृष्ण को पूजते है वे गलत किस प्रकार है।गुरुजी यदि प्रश्न कुछ अनुचित लगे तो छमाप्रार्थी हूँ।
Swami Ramswarup: Blessings beti. Jo jeevit aacharya jeevit shishyon ko shiksha deta hai aur yadi aacharya shareer tyag deta hai tub to shishyon ko us Acharya kee vedic shikshayon par dhyan dena hee hai aur us Acharya ko dhyan mein bhi laya ja sakta hai. Parantu jismein us swargawaasi Acharya se deeksha nahi lee, woh uska dhyan nahi dhar sakta. Aapke agle prashan ka uttar yeh hai ki Sri Ram aadi anek vibhutiyon ne bahut pehle se hee shareer tyag rakha hai aur unhone kisi ko deeksha bhi nahi dee.